Happenings
 
  हिंदी दिवस - 2017  
 

हिन्दी दिवस प्रत्येक वर्ष 14 सितम्बर को मनाया जाता है। 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया कि हिन्दी ही भारत की राजभाषा होगी। इसी महत्वपूर्ण निर्णय के महत्व को प्रतिपादित करने तथा हिन्दी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिये राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर वर्ष 1953 से पूरे भारत में 14 सितंबर को प्रतिवर्ष हिन्दी-दिवस के रूप में मनाया जाता है। वर्ष 1918 में गांधी जी ने हिन्दी साहित्य सम्मेलन में हिन्दी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने को कहा था। इसे गांधी जी ने जनमानस की भाषा भी कहा था। स्वतंत्र भारत की राजभाषा के प्रश्न पर 14 सितंबर 1949 को काफी विचार-विमर्श के बाद यह निर्णय लिया गया जो भारतीय संविधान के भाग 17 के अध्याय की धारा 343(1) में इस प्रकार वर्णित है:

संघ की राज भाषा हिन्दी और लिपि देवनागरी होगी। संघ के राजकीय प्रयोजनों के लिए प्रयोग होने वाले अंकों का रूप अंतर्राष्ट्रीय रूप होगा

 

यह निर्णय 14 सितंबर को लिया गया, इस कारण हिन्दी दिवस के लिए इस दिन को श्रेष्ठ माना गया था। बोल-चाल के लिहाज़ से हिन्दी भाषा, अंग्रेज़ी और चीनी भाषा के बाद पूरी दुनिया में बोली जाने वाली तीसरी सबसे बड़ी भाषा है। लेकिन उसे अच्छी तरह से समझने, पढ़ने और लिखने वालों की संख्या बहुत ही कम है। हिन्दी भाषा पर अंग्रेजी के शब्दों का भी बहुत अधिक प्रभाव हुआ है और कई शब्द प्रचलन से हट गए और अंग्रेज़ी के शब्द ने उसकी जगह ले ली है। जिससे भविष्य में भाषा के विलुप्त होने की भी संभावना अधिक बढ़ गई है। इस कारण ऐसे लोग जो हिन्दी का ज्ञान रखते हैं या हिन्दी भाषा जानते हैं, उन्हें हिन्दी के प्रति अपने कर्तव्य का बोध करवाने के लिए इस दिन को हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है। जिससे वे सभी अपने कर्तव्य का पालन कर हिन्दी भाषा को भविष्य में विलुप्त होने से बचा सकें।

 

हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सांची बौद्ध-भारतीय ज्ञान अध्ययन विश्वविद्यालय भी अपनी आहूति दे रहा है। प्रत्येक वर्ष सितंबर माह में विश्वविद्यालय का हिंदी विभाग, हिंदी दिवस मनाता है। हिंदी दिवस के इस मौके पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। हिंदी भाषा पर आप अपने विचार सांची विश्वविद्यालय के ब्लॉग पर व्यक्त कर सकते हैं। विश्वविद्यालय द्वारा यह एक ऐसा मंच उपलब्ध कराया गया है, जिस पर आप हिंदी में लिखे अपने लेख, कविताएं, कहानियां, विचार, हिंदी भाषा से जुड़ी कोई नई जानकारी, हिंदी भाषा तथा उसका व्याकरण, नए शब्द, पर्यायवाची शब्द इत्यादि डाल सकते हैं। विश्वविद्यालय का हिंदी विभाग इन रचनाओं की जांच करेगा एवं स्तरीय पाए जाने पर इन्हें आपके नाम से ही ब्लॉग पर प्रकाशित करेगा।

 

 

फोटो गैलरी के लिए यहाँ क्लिक करें।